दलित के यहां सहभोग में शामिल हुए सीएम योगी, कल ब्रह्म मुहूर्त में चढ़ाएंगे खिचड़ी

दलित के घर खिचड़ी खाने की परंपरा है पुरानी

मुख्यमंत्री ने अमृत लाल के घर खिचड़ी खाकर सामाजिक समरसता का संदेश दिया। जानकारी के अनुसार दलित के घर खिचड़ी खाने की परंपरा करीब 40 वर्ष पुरानी है। मुख्यमंत्री पूर्व में भी इस परंपरा का निर्वहन करते रहे हैं। उनसे पूर्व में ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ इस परंपरा का निर्वहन करते रहे हैं। मुख्यमंत्री के आगमन को लेकर अमृत लाल का परिवार सुबह से उत्साहित था। घर में सुबह से तैयारी की जा रही थी। 

मकर संक्रांति का पर्व शनिवार को है लेकिन परम्परागत रूप से 14 जनवरी को खिचड़ी मनाने वाले श्रद्धालुओं ने शुक्रवार भोर से ही गोरखनाथ मंदिर में बाबा गोरखनाथ को श्रद्धा की पवित्र खिचड़ी चढ़ाना शुरू कर दिया है। गुरु गोरक्षनाथ मंदिर में मकर संक्रांति पर्व पर बाबा गोरक्षनाथ को खिचड़ी चढ़ाने की परंपरा युगों पुरानी है। भगवान सूर्य के प्रति आस्था से जुड़े इस पर्व पर खिचड़ी चढ़ाने का इतिहास त्रेतायुग का है।

गोरक्षपीठाधीश्वर ब्रह्म मुहूर्त में चढ़ाएंगे खिचड़ी

शनिवार 15 जनवरी को ब्रह्म मुहूर्त में तीन बजे गोरक्षपीठाधीश्वर महंत योगी आदित्यनाथ बाबा गोरखनाथ की विशेष पूजा-अर्चना करेंगे। मंदिर की तरफ से बाबा को खिचड़ी अर्पित की जाती है। इसके बाद नेपाल राजपरिवार से आई खिचड़ी चढ़ाई जाती है।