जाखड़ बोले- पंजाब में कांग्रेस नहीं करेगी CM कैंडिडेट की घोषणा, नवजोत सिंह सिद्धू को बड़ा झटका

पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू खुद को अगले विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री उम्मीदवार के तौर पर पेश कर रहे हैं। हालांकि, उनके इस दावे को झटका लगा है। पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने उन अफवाहों की पुष्टि की है कि कांग्रेस आगामी चुनाव के लिए मुख्यमंत्री के चेहरे की घोषणा नहीं करेगी।

पंजाब में पार्टी के शीर्ष चेहरे विभिन्न समुदायों से आते हैं, जिसका उद्देश्य सभी चुनावी रूप से महत्वपूर्ण समूहों के वोट बैंक में साथ करके संख्या को मजबूत करना है।

मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी दलित समुदाय से आते हैं। पंजाब कांग्रेस कमेटी के प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू एक सिख नेता हैं। वहीं, सुनील जाखड़ एक जाट हैं, जो कि चुनाव प्रचार समिति के प्रमुख भी हैं। इनके अलावा दो उपमुख्यमंत्री (सुखजिंदर सिंह रंधावा जो कि एक जाट सिख हैं और ओपी सोनी जो कि हिंदू समुदाय से हैं) की जोड़ी एक नाजुक संतुलन बनाने की कोशिश करती दिखाई देती है।

पंजाब कांग्रेस इस साल की शुरुआत में पार्टी नेताओं द्वारा खुले विद्रोह के बाद बड़े संकट से गुज़री थी, जो मुख्यमंत्री पद से अमरिंदर सिंह को हटाने के साथ समाप्त हो गया था। तब राज्य को अपना पहला दलित मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के रूप में मिला।

हाल ही में सिद्धू ने मांग की थी कि उनकी पार्टी मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करे। सीएनएन-न्यूज18 के साथ एक साक्षात्कार में उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा, “दूल्हे के बिना बारात क्या है।” उन्होंने कहा कि संकट से बचने के लिए सही मुख्यमंत्री महत्वपूर्ण है।

राज्य में विधानसभा चुनावों के लिए टिकट वितरण में एक उम्मीदवार की जीत सबसे बड़ा कारक होगी और पार्टी यह सुनिश्चित करेगी कि एक परिवार के केवल एक व्यक्ति को चुनाव लड़ने के लिए टिकट मिले। जाखड़ ने कहा, “टिकटों के वितरण का सबसे बड़ा आधार उम्मीदवार की जीत की संभावना का होना है। एक अन्य महत्वपूर्ण कारक यह होगा कि एक परिवार के केवल एक व्यक्ति को चुनाव लड़ने के लिए टिकट मिलता है।”

उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले आगामी चुनाव में भी ऐसा करने नहीं जा रही है। उन्होंने सवाल किया, “वे लोगों का सामना करने से भाग रहे हैं। उनके पास अब कोई बहाना भी नहीं है। पहले किसान और उनका विरोध था। अब वे भी चले गए हैं। वे अब क्यों भाग रहे हैं?”