अमित शाह बैठे कोर कमेटी संग: तय हुआ कोरोना चैलेंज के बीच कैसे होगा प्रचार, नया प्लान बना?

चुनाव आयोग के दिशा-निर्देशों के क्रम में भाजपा भी अब डिजिटल चुनाव प्रचार अभियान की ओर बढ़ेगी। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने गुरुवार शाम पार्टी के राज्य मुख्यालय पर कोर कमेटी संग विस्तार से चर्चा की। फीडबैक और सुझाव लिए कि इस दिशा में कैसे आगे बढ़ा जाए। उन्होंने अवध और कानपुर क्षेत्र के पदाधिकारियों संग बैठक में जनविश्वास यात्राओं का फीडबैक लिया।

चुनाव प्रचार के दूसरे और क्या-क्या विकल्प हो सकते हैं, इस पर भी मशविरा किया गया। फिर अवध और कानपुर क्षेत्र के पदाधिकारियों और जनप्रतिनिधियों, मंत्रियों संग बैठक में चुनावी तैयारियों पर बात की। सभी ने जनविश्वास यात्राओं से बेहतर माहौल बनने की बात कही। वहीं पार्टी के सभी मोर्चों द्वारा हर विधानसभा क्षेत्र में आयोजित किए जाने वाले जातीय, किसानों, युवाओं, महिलाओं के सम्मेलनों की रूपरेखा पर भी चर्चा हुई।

जनवरी के पहले हफ्ते में मांगे प्रत्याशियों के पैनल

जनवरी के पहले सप्ताह में सभी 98 संगठनात्मक जिलों से संभावित प्रत्याशियों के नामों के पैनल मांगे जाएंगे। हर विधानसभा क्षेत्र से वरीयता क्रम में तीन से चार नाम लिए जाएंगे। उसके बाद क्षेत्रीय स्तर से पैनल मांगे जाएंगे। दोनों स्तर से प्राप्त पैनलों की प्रदेश स्तर पर स्क्रूटनी की जाएगी। फिर अपने फीडबैक के आधार पर कोर कमेटी द्वारा जो नाम तय किए जाएंगे, उन्हें पार्टी संसदीय बोर्ड के समक्ष रखा जाएगा।

प्रधानमंत्री भी प्रदेश के हर कोने में सभाएं कर चुके हैं। गृहमंत्री अमित शाह 26 से 31 दिसंबर के बीच 10 जनसभाएं और रोड शो कर रहे हैं। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य सहित अन्य नेता प्रदेश के सभी जिलों का दौरा, सभाएं और बैठकें कर चुके हैं।