आज राज्यपाल से मिलेंगे सभी दलों के नेता, जनगणना-2021 में आदिवासियों के लिए अलग सरना धर्म कोड की मांग

जनगणना-2021 में आदिवासियों के लिए अलग सरना धर्म कोड की मांग को लेकर सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल गुरुवार को राज्यपाल से मिलेगा। इस प्रतिनिधिमंडल में भाजपा और आजसू के नेता में शामिल होंगे। इस प्रतिनिधमंडल का नेकृत्व मंत्री चंपई सोरेन करेंगे।

नई दिल्ली में गृह मंत्री अमित शाह से मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के नेतृत्व में 26 सितंबर को सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल ने भेंट कर जनगणना 2021 में सरना धर्म कोड को शामिल करने संबंधित ज्ञापन सौंपा था। इससे पहले राज्य सरकार ने विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर सरना धर्म कोड को जनगणना में शामिल करने का प्रस्ताव पारित किया था। प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित हुआ था।

केंद्रीय गृह मंत्री को सौंपे गए मांग पत्र में सरना धर्म कोड को जनगणना में शामिल करने के कई फायदे बताये गये थे। बताया गया था कि इससेे नीति निर्धारण में कई तरह के लाभ होंगे। विषमताओं को दूर करने में जातिगत आंकड़े की जरूरत है। यह भी कि पिछड़े वर्ग के लोगों को आरक्षण की सुविधा उपलब्ध कराने में ये आंकड़े सहायक सिद्ध होंगे।